Top 5 Yoga to Prevent and fight with Cancer

किसी व्यक्ति के सम्पूर्ण स्वास्थ्य में सुधार के लिए व्यायाम महत्वपूर्ण है यह हृदय की वीनस, श्वसन उत्पादकता और आपकी मनोदशा में सुधार लेन की बहुत बड़ी कुंजी है। बहुत से लोग अपने दैनिक जीवन में व्यायाम जोड़ने का आनंद नहीं लेते हैं यही वजह है के वे कई तरह की बीमारियों से जूझते है है आज हम बताने जा रहे है Yoga to Prevent & fight with Cancer. योग शरीर के सम्पूर्ण विकास और बीमारियों को दूर रखने के लिए बहुत जरूरी है। योग करने से शरीर को कोई नुकसान नई होता और शरीर के सारे अंग सुचारु रूप से काम करते है। वर्षो की स्टडी में पाया गया के हर तरह की बीमारी को दूर करने में योग का एक महतवपूर्ण स्थान है। अगर आप नियमित रूप से योग करते है तो आप पाएंगे के आप बीमारियों से कोसो दूर है और साथ ही एक अलग तरह का कॉन्फिडेंस मह्सूस करते है।

Also Read: Top 5 Yoga to Make your Heart Healthy

Cancer या कर्करोग, जैसे की हम सभी जानते है, एक बहुत ही जानलेवा रोग है। बहुत कम भाग्यशाली लोग ही यह रोग होने के बाद अपनी जान बचाने में कामयाब होते है। आज Medical Science एक बहुत ही अलग मुकाम पर पहुँच चुका है। हर तरह की बीमारी का इलाज आज Medical Science के पास है पर फिर भी Cancer को पूरा काबू पाने में विफल हुआ है। ज्यादातर Cancer के रोगीयो को पता नहीं चलता इस बीमारी के बारे में और इलाज में देरी होने के कारण इसे नियंत्रित कर पाना मुश्किल हो जाता है। अगर हम लोग कुछ सावधानी बरते तो अपने आप को और अपने परिवार को कैंसर जैसे भयानक रोग से बचा सकते हैं।

उपचार के दौरान और बाद में कीमोथेरेपी या असुविधा के कारण नियमित मितव्ययिता और कमजोरी से निपटने के दौरान कैंसर रोगियों को आम तौर पर मुश्किल समय से गुज़रना पड़ता है। कठोर उपचार के कारण होने वाली दुष्प्रभावों की सूची भी बहुत लंबी है। समीक्षकों ने कहा कि स्तन कैंसर वाले लोगों ने योग, चिंता, अवसाद और थकान को कम करने में मदद की है। इससे जीवन की गुणवत्ता, भावनात्मक भलाई और सामाजिक कल्याण को बेहतर बनाने में मदद मिली।

Also Read: Anulom-Vilom Pranayama steps and benefits

योग अभ्यास के कई पहलू कैंसर रोगी को शारीरिक और मानसिक रूप से ठीक रहने के लिए सहायक होते हैं। आसन के माध्यम से शारीरिक एनर्जी बनाये रखने में मदद मिलती है। लेकिन कई कैंसर से बचे लोग और योग शिक्षक कहते हैं कि एक सबसे महत्वपूर्ण अभ्यास प्राणायाम हो सकता है, जो शरीर को आराम दे सकता है, फिर भी मन, और लोगों को उनकी आत्मा से जुड़ने में मदद कर सकता है।

इस लेख में हम आपको बताने जा रहे है कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण Baba Ramdev Yoga जो के आपको कैंसर से बचने और लड़ने में मदद करेंगे:

Also Read: Patanjali Yoga Sutras – well explained summary of patanjali Sutras

1. Cat and Cow stretch:

Cat and Cow stretch योग कैंसर पीड़ित लोगो के लिए बहुत ही जरूरी है। यह एक बहुत ही अच्छा आसन जो के रीढ़ की हड्डी को लचीला और मजबूत बनाने में बहुत मदद करता है और कैंसर पीड़ित लोगो के लिए बहुत ही लाभदायक है।

Cat Stretch Pose

  • अपने घुटनों और हाथों पर आओ
  • हाथो को कंधे के नीचे और जांघों के कूल्हों के नीचे पूरी तरह से लाये।
  • रीढ़ की हड्डी को गर्दन से निचली पीठ तक सीधी रखें।
  • रीढ़ की हड्डी में वक्र बनाकर पैर की उंगलियों को जोड़े, श्वास लें, और सिर ऊपर उठाएं
  • अपने सिर को ढीला छोड़ दें, अपनी पीठ को curve की तरह बनाये और अपने पेट को टाइट करे। अपनी सांस पर ध्यान केंद्रित करते हुए 5 – 10 राउंड अभ्यास कीजिये।

Also Read: Padmasana (Lotus Pose) steps and benefits

2. Supta Baddha Konasana

इस मुद्रा में गहरे विश्राम की भावना उत्पन्न होती है यह न केवल एक दृढ आसन है बल्कि एक हिप ओपनिंग आसन भी है। यह एक मूल मुद्रा है, जो कोई भी आसनी से कोशिश कर सकते हैं। इस आसन को Reclined Cobbler’s Pose या Reclined Goddess Pose भी कहा जाता है

SuptaBaddhaKonasana

  • आपके पीछे कुछ नरम तकिये के साथ आराम से बैठें।
  • घुटनों को साथ जोड़े, अपने पैरों को एक साथ लाओ।
  • घुटनों को अपने कूल्हों से दूर जाने की अनुमति दें; गुरुत्वाकर्षण को अपने घुटनों को नीचे खींचने दें।
  • सांस छोड़ते हुए अब धीरे-धीरे वापस झुकना हैं।
  • अपने निचले हिस्से को पीछे कुशन पर आराम करने दे और पीठ के ऊपरी हिस्से को ज़मीन की ओर ले जाएं।
  • अगर जरूरी हो तो अन्य कुशन के साथ अपने सिर को सपोर्ट करें
  • फर्श पर अपनी बाहों को आराम करने दे, हथेलियों को सामने की तरफ रखे
  • लगभग 15-20 मिनट के लिए आसन में गहरी साँसें ले और फिर रिपीट करे

Also Read: Baba Ramdev’s home remedies and Ayurvedic medicines

3. Savasana

यह मुद्रा एक मृत शरीर के लेटा हुआ आसन से उसका नाम हो जाता है। यह आराम और विश्राम की स्थिति है, और आमतौर पर योग सत्र के अंत में अभ्यास किया जाता है – एक सत्र जो आमतौर पर गतिविधि से शुरू होता है और आराम से समाप्त होता है।

corpse-pose

  • चटाई पर अपनी पीठ को झुकाओ, पैर खुले और थोड़ा बाहर निकालो और हथेलियां ऊपर की तरफ लाओ
  • अपनी आँखें बंद करो और अपने शरीर को एक लाश की तरह आराम करने दे।
  • क्रिया को नरम और धीरे करने के लिए आप पेट से सांस लेने का अभ्यास कर सकते हैं ।
  • यह आसन शरीर और मन के सम्पूर्ण आराम के लिए जाना जाता है
  • यह आपके रक्तचाप, हृदय गति और शरीर के तापमान को स्थिर कर एक ही समय में आपके मन को शांत कर देता है।

Also Read: Top 5 Yoga to Make your Heart Healthy

4. Legs Up The Wall

यह आसन सबसे पौष्टिक, ग्राउंडिंग और शांत होने में से एक है जो व्यक्ति अपने जीवन में अभिभूत, थका हुआ, या तनावग्रस्त महसूस करते है उनके लिए यह योग बहुत ही लाभदायक है। साथ ही यह कैंसर से बचने में भी मदद करता है

leg-up-posture

  • यह एक सरल मुद्रा है जहां आप अपनी पीठ के बल लेटते हैं और दीवारों के ऊपर अपने पैर खड़े करते हैं
  • अपने शरीर के साथ दीवार की सतह पर 90 डिग्री के कोण बनाते हुए शरीर को आराम दे।
  • आराम के लिए आप पीठ के नीचे एक कुशन रखें।
  • लगभग 20 मिनट के लिए आपके श्वास पर ध्यान केंद्रित करें

Also Read: Baba Ramdev’s 10 Tips for weight loss with Diet Chart

5. Half Sun Salutation:

योग सत्र की शुरुआत में शरीर को गर्म करने का आधा सूर्य नमस्कार का यह संस्करण एक शानदार तरीका है; और यदि आपके पास केवल पांच मिनट हैं, तो यह अपने आप में एक पूर्ण अभ्यास हो सकता है। यह रीढ़ की हड्डी को आगे और पीछे दोनों झुकाता है, कूल्हों और हैमस्ट्रिंग खोलता है, संचलन को उत्तेजित करता है, और एक गहरी और तालबद्ध सांस को स्थापित करता है।

  • अपने आस-पास एक शांत जगह बनाएं और सीधे अपने पैरों के साथ खड़े रहें।
  • अपने हथेलियों को एक साथ प्रार्थना करें जैसे प्रार्थना में करते है, कंधे नीचे और पीछे हैं सुनिश्चित करें
  • आगे देखो, ठोड़ी सीधे। अब, गहराई से श्वास और सिर के ऊपर अपने हाथो को लेकर जाये
  • खिंचाव और श्वास को महसूस करो, अपने हाथों को पैर की तरफ लाने के लिए कमर पर मोड़ो।
  • आप चाहे तो अपने घुटनों को मोड़ सकते हैं
  • अपने पैर की उंगलियों के साथ हाथ की उंगलियों को स्पर्श करें, अपनी पीठ सीधे रखें
  • श्वास ले, स्थायी स्थिति पर लौटें

Also Read: Patanjali Ayurvedic Medicines to Fight with Cancer

Related Articles